क्या Yes bank share का भाव बढ सकता है?
जो लोग Yes bank share में IPO से अब तक निवेशित हैं, या कई लोगोने चढ़े भाव में इसके शेयर्स लिए हैं, उनके दिमाग में एक ही सवाल हैं,’क्या Yes bank share का भाव बढ सकता है?’

Yes bank की वर्तमान में वित्तीय स्थिति और इतिहास

Yes bank आज भारत की पाचवे नंबर पे स्थित एक निजी बैंक हैं। राणा कपूर और अशोक कपूर ने मिलकर 2004 में मुंबई में इसकी स्थापना की। पूरे देश मे इसकी मौजूदगी हैं। इस बैंक का नेटवर्क देखे तो 1000 से ज्यादा इसके ब्रांचेस हैं और 1800 ATMs हैं। एक समय में Yes bank का मार्केट कैप 3 लाख करोड़ से ज्यादा थी, लेकिन एकाएक आज इसमे भारी गिरावट आ गई।

एक समय था ये बैंक सब शेयर धारकों का और बड़े संस्थागत निवेशकों का पसंदीदा बैंक था लेकिन कुछ ही सालो में ये भरोसा कायम दिलाने में यस बैंक नाकाम रही।

जिस निवेशकों ने IPO में पैसा लगाया था उन्होंने 2017 तक इसमे खूब पैसा बनाया। एक समय मे ये एक multibagger शेयर हुआ करता था। लेकिन उनमें वही खुशनसीब निकले जिन्होंने Yes bank के शेयर को 2017 में बेच डाले। क्योंकि उसके बाद का समय Yes bank share के लिए काफी खराब रहा।

आज की तारीख में बहुत सारे निवेशक इसमे फसे हुए हैं। वो समझ नही पा रहे हैं इसको बेचके निकले या निवेशित रहे।

पिछले 1 साल से लेकर 10 साल तक जो भी Yes bank share में अब तक निवेशित हैं उनकी जमा पूंजी नेगेटिव में हैं।

Yes bank की वित्तीय हालात क्यों खराब हुई?           

यस बैंक भारत की पाचवी नंबर पे सबसे बड़ी निजी बैंक। कम समय मे इस बैंक ने पूरे देश मे अपने पैर जमाये। लेकिन यस बैंक के डिफॉल्टर की वजह से यस बैंक की छबि बिगड़ गई। तगड़ी बैलेंस शीट वाले यस बैंक की वित्तीय हालात नाजुक हो गई।

ऐसी क्या चीज हुई जिसके कारण इतनी बड़ी बैंक आज तकलीफ में पहुँच गई।
उसके पीछे बड़ा कारण ये हैं की, इस बैंक ने बड़े उद्योगपतियोंको लोन देते समय नियम और प्रक्रिया की परवाह नहीं की।

उनके क्रेडिट स्कोर के बजाय अपने व्यक्तिगत रिश्तों के आधार पर इन दिवालिया हुए उद्योग घरानों को लोन दिए गए। 2017 में भारत सरकार ने यस बैंक के ऊपर शिकंजा कसना शुरू किया। तब से Yes bank में रफ्तार थम गई। उसका पतन चालू हुआ।

कई कंपनियो पर आज भी हजारों करोड़ का कर्जा हैं। उसमें से अधिक लोन डिफ़ॉल्ट हो चुके हैं। कई कंपनियां दिवालिया हो चुकी थी या होने की कगार पे हैं।

Yes bank loan defaulter की सूची
  1. ANIL AMBANI GROUP – ₹.12800 करोड़
  2. ESSEL GROUP। – ₹. 8400 करोड़
  3. CG POWER – ₹. 500 करोड़
  4. FS GROUP – ₹. 2442 करोड़
  5. RADIUS DEVELOPERS – ₹. 1200 करोड़
  6. OMKAR REALTORS – ₹. 2710 करोड़
  7. DHFL – ₹. 4735 करोड़
  8. JET AIRWAYS – ₹. 1100 करोड़
  9. COX AND KINGS – ₹. 1000 करोड़
  10. IL&FS – ₹. 2500 करोड़
  11. BM KHAITAN – ₹. 1250 करोड़

Essar Power और Varadraj Cement जैसे आदि और भी अन्य नाम इसमे शामिल हैं ।

  जमाकर्ताओं का तथा शेयर धारकों का Yes bank सहित निजी क्षेत्र बैंक से भरोसा घटा

Yes bank संकट से निजी क्षेत्र के बैंको पर खाताधारक या जमाकर्ताओं का भरोसा कम हुआ हैं। इसके विपरीत सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों पर भरोसा बढ़ चुका हैं।

लोगोंके मन में ऐसी धारणा बन चुकी हैं की निजी बैंक के मुकाबले सार्वजनिक बैंक को सरकार का मजबूत संरक्षण मिल रहा हैं और आगे भी मिलता रहेगा।

लेकिन जो समझदार निवेशक हैं वो सार्वजनिक बैंक के इक्विटी में अपना कीमती पैसा निवेश नही कर रहें। उनकी आज भी पहली पसंद चुनिंदा निजी बैंक ही हैं। उदाहरण के तौर पर HDFC BANK और KOTAK MAHINDRA BANK जिसके फंडामेंटल मजबूत हैं।

लेकिन भारत की पांचवी बड़ी निजी बैंक होने के बावजूद Yes bank में आज की स्थिति में ऐसी कोई सकारात्मक चीज नजर नही आ रही, जिससे शेयर धारकों को तुरंत फायदा हो।

Yes bank की वर्तमान आर्थिक हालात स्थिति (July, 2020)

Market Cap = 23971.40 cr

Networth = 21,694.96 cr

Revenue = 26,052.02 cr

Earning = -16,432.58 cr

Advances = 1,71,433.09 cr

52 Week Range = 5.65 (06-MAR-20) – 108.50 (17-JUL-19)

Face Value = 2.00

क्या Yes bank share का भाव बढ सकता हैं? इस प्रश्न का उत्तर ‘हा’ या ‘ना’ में दे पाना मुश्किल हैं। क्योंकि हमारा शेयर मार्केट सेंटिमेंट के उपर या सट्टेबाजी में भी चलता हैं। फंडामेंटल खराब होने के बावजूद भी कोई शेयर ऐसे ही बढ़ते रहते हैं।

आज ऐसे भी लोग हैं जो ये सोचते होंगे की सभी बैंकों के तुलना में यस बैंक का शेयर सस्ता मिल रहा हैं, तो इसको खरीदा क्यू ना जाए।

रिपोर्ट के अनुसार हाल में कोरोना वायरस की चिंता से जिस तरह का माहोल हैं उस हिसाब से देखा जाए तो बैंकिंग क्षेत्र में आनेवाले एक डेढ़ साल चुनौतीपूर्ण हालात रहेंगे।

नामचीन अच्छे फंडामेंटल वाले बैंक के कारोबार भी कुछ महीनों से सुस्त पड़े हैं। KOTAK MAHINDRA BANK, HDFC BANK के शेयर्स भी सस्ते दाम मिल रहे हैं।
यस बैंक के मामले में अब तक ऐसी कोई चीज़ नही दिख रही हैं की इस शेयर्स का भाव बढ़े।

दुनिया की नामचीन रेटिंग एजेंसियों ने और भारत के भी एजेंसियों ने ( उदाहरण स्टेंडर्ड एंड पूअर, मूडीज, फिच, क्रिसिल, इक्रा, आदि ) यस बैंक की रेटिंग downgrade की। जब तक इसमे कोई सुधार नही आता हैं, या एजेंसियों के पैमाने पे ये बैंक खरी उतरती नहीं तब तक यस बैंक में निवेश नही करना चाहिए।

ऑगस्ट,2019 से लेकर आज तक प्रोमोटर होल्डिंग 17.97 प्रतिशत से गिरकर 1.42 प्रतिशत हो चुकी हैं।

FII / FPI की होल्डिंग 31.73 से गिरकर 1.86 प्रतिशत हो चुकी हैं।

इन्शुरन्स कंपनी की होल्डिंग 9.04 प्रतिशत से कम होकर 1.67 प्रतिशत हो चुकी हैं।

म्यूच्यूअल फण्ड की भी होल्डिंग 9.29 प्रतिशत से गिरकर 0.56 प्रतिशत हो चुकी हैं।

जब तक इसमे FII/FPI, म्यूच्यूअल फण्ड ,इन्शुरन्स कंपनी और प्रोमोटर की हिस्सेदारी बढ़ती नही तब तक इसमे निवेश करना उचित नही।

इसमे केवल तीन चीज सकारात्मक दिख रही हैं

गिरवी रखे शेयर्स में ऑगस्ट,2019 से लेकर अब तक भारी गिरावट आई हैं। 1.69 प्रतिशत ही शेयर्स अब गिरवी पड़े हैं। ऑगस्ट 2019 में ये संख्या 40.78 प्रतिशत थी।

फाइनेंसियल इंस्टिट्यूट और बैंक्स ने इसमे अपना निवेश 0.44 प्रतिशत से बढ़ाकर 66.94 प्रतिशत किया।

हाल-फिलहाल Yes बैंक Fpo के जरिए 15000 करोड़ पूंजी जुटाने की घोषणा से और  fpo के पहले ही बड़े एंकर निवेशकों से  4500 करोड़ जुटा लेने से निवेशक अभी निश्चिन्त है।
अब तक इसमे अमेरिका की टिल्डेन पार्क, सिंगापुर की अमांसा कैपिटल और ब्रिटेन की ज्यूपिटल फण्ड ने 12 रुपये प्रति शेयर के भाव मे निवेश किये है।
अब इतना तय है की आप yes bank share मे long term ke लिये इनवेस्टमेंट कर सकते है।
लेकिन शॉर्ट टर्म के लिए इसे avoid करे।

ये तीन चीजें सकारात्मक होने के बावजूद भी एकाएक यस बैंक में कोई फंडामेंटल बदलते नही दिख रहे जिससे यस बैंक में फौरन सब चीजें बदलकर इसका भाव आसमान छू ले।

जब तक इसमे कोई क्लियर पिक्चर नही दिखता। इसकी balance sheet मजबूत नही होती तब तक इसका भाव बढ़ता हुआ नही दिख रहा।

जिन्हें निजी बैंक में निवेश करना हैं उन्हें और भी अच्छे विकल्प हैं।

जो लोग यस बैंक में पहले से ही ऊँचे भाव में निवेशित हैं या उसमे फस चुके हैं। जो आनेवाले 5 साल या उससे ज्यादा साल के लिए निवेशित रहना चाहते हैं, तो उन्हें उसी बैंक के शेयर्स में निवेश करना चाहिए जहां सारी चीज़ें क्लियर हो। जैसे कि उनके फंडामेंटल और बैलेंस शीट। उदाहरण के तौर आप HDFC BANK, KOTAK MAHINDRA BANK या BAJAJ FINANCE जैसी NBFC में भी निवेश कर सकते हैं।

हमे आशा हैं की सभी वाचक को yes bank share के विषय मे सारी जानकारी मिली होगी। इस आर्टिकल को आप social account के जरिये अपने दोस्त लोगोंको share कीजिये। जिससे उन्हें Yes Bank Share की ये information मिले। इस लेखन के बारे में आपके मन मे कोई भी सवाल हो या कोई सुझाव हो तो हमे comment या ईमेल कीजिये। हम जरूर आपको जवाब देंगे।

( टिप – इस लेख में दी हुई राय व्यक्तिगत राय हैं। निवेश करने से पहले अभ्यास करें या किसी अच्छे वित्तीय सलाहगार से संपर्क करे )

धन्यवाद।

लेखन – नयन चव्हाण.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *